Tuesday, March 15, 2016

आ चल एक कदम और चलते है । 
दूर डगर नापने की बात करते है ॥ 
फूलो को हाथो में समेट, 
पानी से आकाश की रंगोली भरते है।। 

एक कदम और चलते है ।।

आ मिल शाम को भोर बनाये। 
आ मिल जोर से शौर मचाये ॥ 
सुरों को धुनों की मिटटी से मलते है ,
आ चल एक कदम और चलते है ।।

.....................  साथ चलते है ॥ 

3 comments:

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...