Skip to main content

ख़ामोशी..!!!













होती ख़ामोशी से कुछ बात रात  के साथ..!
फैले हुए सन्नाटे को सुन के चुप्पी के साथ..!!

सोचती हूँ कभी ख़ामोशी के बारे में..

जो चुप रहती है हर पल... और 
जो सिमट जाती है हर रात के साथ...!!
न अपने मन की बताती है...
बस खो जाती है अँधेरे के साथ...!!

कभी सोचा है तुमने.???
ये क्या चाहती है.???

चाहती है कुछ झिलमिलाहट
चमकते चाँद के साथ...!
अँधेरे को बदलना
बिखरते उजाले के साथ..!!

और क्या चाहती है जानते हो.???

अपनी चुप्पी को तोडना
मुस्कराहट के साथ...!
और गुजार देना सारी उम्र
तुम्हारे साथ के साथ...!!

Comments

  1. चाहती है कुछ झिलमिलाहट
    चमकते चाँद के साथ...!
    अँधेरे को बदलना
    बिखरते उजाले के साथ..!!

    और क्या चाहती है जानते हो.???
    ......वाह ! कितनी सरलता से कितने गूढ़ भावों को लिखा है आपने ।
    बधाई !

    ReplyDelete
  2. लाजबाब प्रस्तुति

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

निश्चय..!!

प्रारंभिक भोर में लिया दृढ़ निश्चय,

शंध्या आते विफलता की चौखट लांघ लेता है.!!

प्रतिबिम्ब सा मन ओज से भरा,

परिस्तिथियों से तल्लीन खुद को अधीन बना लेता है। !!

मैं ही क्यों .........!!!!!

मैं ही क्यों सबके सामने झुकू...

मैं ही क्यों हर बार अपनी जिम्मेदारी निभाऊ......

मैं ही क्यों हर बात के लिए खुद को  कोसु.. 

मैं ही क्यों हर बार त्याग करू...




क्या बेटी का मन नहीं होता....

अपनी इच्छा को सबके सामने रखने का..

या फिर उसका हक़ नहीं होता...

अपने सापको को पूरा करने का....

मैं ही क्यों... अपनी इच्छाओ का गला घोटू..

मैं ही क्यों... अपने सपनो को पूरा होने से रोकू...



मेरा कुछ बोलना लोग बगावत समझते है...

अगर कुछ मांगू तो खिलाफत समझते है...

क्यों मुझे ही समाज के नाम पे दबाया जाता है...

क्यों मेरी भावनाओ को मिटाया जाता है.....

मैं ही क्यों खुद को समाज की भट्टी में झोकू..

मैं ही क्यों अपनी भावनाओ को रोंदू.....

मैं ही क्यों .........!!!!!


Stop Domestic Violence Against Women 


दुविधा...!!!!

मन ऐसो मेलन भरा, ते तन सुच्चो कैसो कहाय ...!
जे सोचु हरी ते पाप हरे, ते पूजन न सुहाय ...!!
ऐसो दुविधा सांस लगी, न निति कोई सुझाय ...!
तर जाऊ मैं पाप ते, या खुद ने देउ डुबोय ....!!