Skip to main content

तेरी इच्छा शक्ति..!!!














लगा ठोकर हर उस पत्थर को ..
जो सामने आये तेरे..
हर रस्ते को अपनी लगन से सजा ..
न डर गिरने से .. जब मैं हूँ साथ तेरे...!!!

पथ को पैरो से नाप चल तू..
अपनी उम्मीद की बाहों को बड़ा ले....
फूल समझ काँटों पे चल तू..
न डर मुरझाने से ..जब मैं हूँ साथ तेरे...!!!

उठा निगाहे, आसमां पे टिका..
न दबा चाह को धरती के बोझ से..
बस उड़ने दे सपनो को मन की उड़ान से ..
न डर टूटने से.. जब मैं हूँ साथ तेरे...!!!

बड़ा हाथ अपने धूप को पकड़ ले ..
मुट्ठी में सूरज को बंद कर ले..
अँधेरे को डरा अपने इशारो पे..
न डर जलने से.. जब मैं हूँ साथ तेरे...!!!

हस के कर सामना हर मुश्किल से...
दूर कर उदासी को अपने चेहरे से...
थाम लूगी तेरा हाथ, मैं हर मोड़ पे .
न डर रोने से ....जब मैं हूँ साथ तेरे...!!!
तेरी इच्छा शक्ति..!!!

Comments

  1. कमाल का लिख डाला है बेहद ख़ूबसूरत .... लिखते रहिये...!!Wahh ...!!

    ReplyDelete
  2. बहुत बढिया प्रस्तुति,मन की भावनाओं की सुंदर अभिव्यक्ति ......
    WELCOME to--जिन्दगीं--

    ReplyDelete
  3. अँधेरे को डरा अपने इशारो पे..
    न डर जलने से.. जब मैं हूँ साथ तेरे...!!!
    .......बहुत अच्छी लगीं यह पंक्तियाँ ।

    ReplyDelete
  4. प्रेम के प्रति आपकी बेहतरीन सोंच इस सुन्दर-सी कविता में प्रतिबिंबित हो रही है.
    वाह.....!!

    ReplyDelete
  5. बहुत खुबसूरत रचना अभिवयक्ति...

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

निश्चय..!!

प्रारंभिक भोर में लिया दृढ़ निश्चय,

शंध्या आते विफलता की चौखट लांघ लेता है.!!

प्रतिबिम्ब सा मन ओज से भरा,

परिस्तिथियों से तल्लीन खुद को अधीन बना लेता है। !!

मैं ही क्यों .........!!!!!

मैं ही क्यों सबके सामने झुकू...

मैं ही क्यों हर बार अपनी जिम्मेदारी निभाऊ......

मैं ही क्यों हर बात के लिए खुद को  कोसु.. 

मैं ही क्यों हर बार त्याग करू...




क्या बेटी का मन नहीं होता....

अपनी इच्छा को सबके सामने रखने का..

या फिर उसका हक़ नहीं होता...

अपने सापको को पूरा करने का....

मैं ही क्यों... अपनी इच्छाओ का गला घोटू..

मैं ही क्यों... अपने सपनो को पूरा होने से रोकू...



मेरा कुछ बोलना लोग बगावत समझते है...

अगर कुछ मांगू तो खिलाफत समझते है...

क्यों मुझे ही समाज के नाम पे दबाया जाता है...

क्यों मेरी भावनाओ को मिटाया जाता है.....

मैं ही क्यों खुद को समाज की भट्टी में झोकू..

मैं ही क्यों अपनी भावनाओ को रोंदू.....

मैं ही क्यों .........!!!!!


Stop Domestic Violence Against Women 


दुविधा...!!!!

मन ऐसो मेलन भरा, ते तन सुच्चो कैसो कहाय ...!
जे सोचु हरी ते पाप हरे, ते पूजन न सुहाय ...!!
ऐसो दुविधा सांस लगी, न निति कोई सुझाय ...!
तर जाऊ मैं पाप ते, या खुद ने देउ डुबोय ....!!