Skip to main content

पुजारिन......!!!













मैं तो तेरी पुजारिन हूँ प्रभु, न जानू मैं तेरा पूजन....!
न उपासना का ज्ञान मुझे, जानू तो बस तेरा सिमरन ....!!

हर पलछिन तेरा नाम जपु मैं, करू मैं तेरा चिंतन....!
फिर क्यों फासे कष्ट जाल में देके मुझको जीवन....!!

कैसे प्रभु तुम मेरे जो उद्धार न सको मेरा मन ....!
कैसे पाप किये मेने जो कर न सको तुम नियोजन .....!!

न मंगू मैं वैभव सुख का, न मांगू धन का लोभन....!
मांगू इतने कष्ट में तुझसे घिस घिस बन जाऊ में कुंदन....!!

तुझसे इतनी आस करू मैं भर दो दुख से दामन ....!
न इच्छा हसने की मुझको, रोऊ मैं भर-भर अखियन.....!!

तेरी भक्ति को कर्म मनु मैं करू तुझको जीवन अर्पण...!
मैं तो तेरी पुजारिन हूँ प्रभु, करू मैं  तुझको नमन.....!!

Comments

  1. अति सुंदर रचना...मैं तो तेरी पुजारिन हूँ प्रभु, न जानू मैं तेरा पूजन...!न उपासना का ज्ञान मुझे, जानू तो बस तेरा सिमरन ....!!!!!

    ReplyDelete
  2. teri yaad aati he lekin tu nahi aata,teri pyaas jagti he lekin tu nahi bujhata,teri hasrat uthti he lekin poori nahi hoti,tera dard milta he lekin ab saha nahi jaata.kab miloge manmohan ab raha nahi jaata.........

    ReplyDelete
  3. बहुत ही सुंदर .....प्रभावित करती बेहतरीन पंक्तियाँ ....
    बेहद खूबसूरत आपकी लेखनी का बेसब्री से इंतज़ार रहता है

    ReplyDelete
  4. मैं तो तेरी पुजारिन हूँ
    ......एहसास की यह अभिव्यक्ति बहुत खूब

    ReplyDelete
  5. अनोखी लेकिन सच्चे मन की कामना

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

निश्चय..!!

प्रारंभिक भोर में लिया दृढ़ निश्चय,

शंध्या आते विफलता की चौखट लांघ लेता है.!!

प्रतिबिम्ब सा मन ओज से भरा,

परिस्तिथियों से तल्लीन खुद को अधीन बना लेता है। !!

मैं ही क्यों .........!!!!!

मैं ही क्यों सबके सामने झुकू...

मैं ही क्यों हर बार अपनी जिम्मेदारी निभाऊ......

मैं ही क्यों हर बात के लिए खुद को  कोसु.. 

मैं ही क्यों हर बार त्याग करू...




क्या बेटी का मन नहीं होता....

अपनी इच्छा को सबके सामने रखने का..

या फिर उसका हक़ नहीं होता...

अपने सापको को पूरा करने का....

मैं ही क्यों... अपनी इच्छाओ का गला घोटू..

मैं ही क्यों... अपने सपनो को पूरा होने से रोकू...



मेरा कुछ बोलना लोग बगावत समझते है...

अगर कुछ मांगू तो खिलाफत समझते है...

क्यों मुझे ही समाज के नाम पे दबाया जाता है...

क्यों मेरी भावनाओ को मिटाया जाता है.....

मैं ही क्यों खुद को समाज की भट्टी में झोकू..

मैं ही क्यों अपनी भावनाओ को रोंदू.....

मैं ही क्यों .........!!!!!


Stop Domestic Violence Against Women 


दुविधा...!!!!

मन ऐसो मेलन भरा, ते तन सुच्चो कैसो कहाय ...!
जे सोचु हरी ते पाप हरे, ते पूजन न सुहाय ...!!
ऐसो दुविधा सांस लगी, न निति कोई सुझाय ...!
तर जाऊ मैं पाप ते, या खुद ने देउ डुबोय ....!!