Skip to main content

रौशनी........!!!!!!!

सोचा आज के चलो....

सूरज की रौशनी में खुद को भिगो देते है.....

आँखों को आज खुशियों से डुबो देते है....

फेला के अपने दोनों हाथ ..

खड़े हो गये...

उसे देखने को...

की कब उसकी नजर हम पर पड़ेगी...

और मेहरबान होकर मुझ पर बरसेगी...

हाथो को तैयार रखा था..

मुट्ठी में बदलने को...

उसकी रौशनी को ... समेटने को.....

आंखे बंद किये खड़े थे इंतजार में .....

की.....

एक अंधियारी सी महसूस हुई.

जब देखा तो एक बादल....

मेरी खुशियों के बीच आ चूका था .....

और एक ही पल में ....

बरस पड़ा मुझ पर.....

उसके पानी में ही मेरे आसू भी बह गये...

और हम वही पर तरसे से ही रह गये.....

हमारी किस्मत में एक रौशनी भी नसीब नहीं .....

हम फिर उसी अँधेरी राह पे गुम होके चल दिए.....



Comments

  1. dubara kiya hai comment but ab yaad nai aa raha pichli baar kya kiya tha
    phir bhi i would like to say sachi heart touching hai.......

    ReplyDelete
  2. Dil ko Chou gaya hai aapka yai ahsaas. Roshni ho ya pani haatho may sametena to mushkil hai dono ka. Koshish hum fir bhi kartay hai dil ki tassalli kay liye. bahut khoob Anandji :)

    ReplyDelete
  3. काफी अच्छे से शब्दों को उकेरा है आपने .... i like it

    ReplyDelete
  4. शब्द जैसे ढ़ल गये हों खुद बखुद, इस तरह कविता रची है आपने।

    ReplyDelete
  5. कृपया वर्ड वेरिफिकेशन हटा लें ...टिप्पणीकर्ता को सरलता होगी ...
    वर्ड वेरिफिकेशन हटाने के लिए
    डैशबोर्ड > सेटिंग्स > कमेंट्स > वर्ड वेरिफिकेशन को नो NO करें ..सेव करें ..बस हो गया........

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

निश्चय..!!

प्रारंभिक भोर में लिया दृढ़ निश्चय,

शंध्या आते विफलता की चौखट लांघ लेता है.!!

प्रतिबिम्ब सा मन ओज से भरा,

परिस्तिथियों से तल्लीन खुद को अधीन बना लेता है। !!

पुरुषत्व ..!!

मेरे अभिमान को अहंकार का नाम देने से पहले
अपने पुरुषत्व की परिभाषा बदल,
ये तेरे द्वारा दिए गए अनुभवों का  ही परिणाम हैं ।।

दुविधा...!!!!

मन ऐसो मेलन भरा, ते तन सुच्चो कैसो कहाय ...!
जे सोचु हरी ते पाप हरे, ते पूजन न सुहाय ...!!
ऐसो दुविधा सांस लगी, न निति कोई सुझाय ...!
तर जाऊ मैं पाप ते, या खुद ने देउ डुबोय ....!!