Skip to main content

कब तक अदभुत यह कुरीती, मानवता को तडपाएगी !



कब तक यूं खूनी दलदल में, धंसा रहेगा मनुज समाज !
कब तक औरत को रौंदेगा, ये दहेज का कुटिल रिवाज !

कब तक इस समाज में अंधी, रीत चलाई जाएगी !
कब तक नारी यूं दहेज की, बली चढाई जाएगी !

नारी पूजा, नारी करुणा, नारी ममता, नारी ज्ञान !
नारी आदर्शों का बंधन, नारी रूप रंग रस खान !

नारी ही आभा समाज की, नारी ही युग का अभिमान !
वर्षों से वर्णित ग्रंथों में, नारी की महिमा का गान !

नारी ने ही प्यार लुटाया, दिया सभी को नूतन ज्ञान !
लेकिन इस दानव दहेज ने, छीना नारी का सम्मान !

उसके मीठे सपनों पर ही, हर पल हुआ तुषारापात !
आदर्षों पर चलती अबला, झेले कदम कदम आघात !

चीखें उठती उठकर घुटती, उनका क्रंदन होता मौन !
मूक बना है मानव, नारी का अस्तित्व बचाए कौन !

कब तक वो यूं अबला बनकर, चीखेगी चिल्लाएगी !
कब तक नारी यूं दहेज की, बली चढ़ाई जाएगी !

इस समाज में अब लडकी का, बोझ हुआ देखो जीवन !
नहीं जन्म पर खुशी मनाते, होता नहीं मृत्यु का गम !

एक रीति यदि हो कुरीति, तो सब फैलें फिर अपने आप !
इस दहेज से ही जन्मा है, आज भ्रूण हत्या सा पाप !

वो घर आंगन को महकाती, रचती सपनों का संसार !
पर निष्ठुर समाज नें उसको, दिया जन्म से पहले मार !

कोई पूछो उनसे जाकर, कैसे वंश चलाएंगे !
जब लडकी ही नहीं रहेंगी, बहू कहां से लाएंगे !

लडकों पर बरसी हैं खुशियां, लडकी पर क्यूं हुआ विलाप !
प्रेम और करुणा की मूरत, बन बैठी देखो अभिशाप !

कब तक उसके अरमानों की, चिता जलाई जाएगी !
कब तक नारी यूं दहेज की, बली चढाई जाएगी !

इस दहेज के दावनल में, झुलसे हैं कितने श्रृंगार !
कितनी लाशें दफन हुई हैं, कितने उजड़े हैं संसार !

स्वार्थों के खूनी दलदल हैं, नैतिकता भी लाशा बनी !
पीड़ित शोषित और सिसकती, नारी टूटी स्वास बनी !

धन लोलुपता सुरसा मुख सी, बढती ही जाती प्रतिक्षण !
ये सचमुच ही है समाज के, आदर्षों का चीरहरण !

खुलेआम लेना दहेज, ये चलन हुआ व्यापारों सा !
अब विवाह का पावन मंडप, लगता है बाजारों सा !

इस समाज का यह झूठा, वि”वास बदलना ही होगा !
हम सब को आगे आकर, इतिहास बदलना ही होगा !

कब तक अदभुत यह कुरीती, मानवता को तडपाएगी !
कब तक नारी यूं दहेज की बली चढ़ाई जाएगी !!

(By Kamal Rawat)

Comments

  1. बहुत रोचक और सुन्दर अंदाज में लिखी गई रचना .....आभार

    ReplyDelete
  2. सार्थक और बेहद खूबसूरत,प्रभावी,उम्दा रचना है..शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  3. wow itti achi tarah se likha hai yaar sachi i salute you suman ji

    ReplyDelete
  4. Stupid Mrityunjay...... ye mene nahi likha hai..
    dhyan se padho..... niche last me poet ka naam likha hai..... "Kamal Rawat"

    ReplyDelete
  5. आपकी पोस्ट कल 9/8/2012 के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें

    चर्चा - 966 :चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    ReplyDelete
  6. अच्छा हुआ मैने पढ़ लिया
    इसने नहीं उसने लिखा है
    पर जिसने भी लिखा है
    बहुत अच्छा सा कुछ लिखा है !

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

निश्चय..!!

प्रारंभिक भोर में लिया दृढ़ निश्चय,

शंध्या आते विफलता की चौखट लांघ लेता है.!!

प्रतिबिम्ब सा मन ओज से भरा,

परिस्तिथियों से तल्लीन खुद को अधीन बना लेता है। !!

दुविधा...!!!!

मन ऐसो मेलन भरा, ते तन सुच्चो कैसो कहाय ...!
जे सोचु हरी ते पाप हरे, ते पूजन न सुहाय ...!!
ऐसो दुविधा सांस लगी, न निति कोई सुझाय ...!
तर जाऊ मैं पाप ते, या खुद ने देउ डुबोय ....!!

मैं ही क्यों .........!!!!!

मैं ही क्यों सबके सामने झुकू...

मैं ही क्यों हर बार अपनी जिम्मेदारी निभाऊ......

मैं ही क्यों हर बात के लिए खुद को  कोसु.. 

मैं ही क्यों हर बार त्याग करू...




क्या बेटी का मन नहीं होता....

अपनी इच्छा को सबके सामने रखने का..

या फिर उसका हक़ नहीं होता...

अपने सापको को पूरा करने का....

मैं ही क्यों... अपनी इच्छाओ का गला घोटू..

मैं ही क्यों... अपने सपनो को पूरा होने से रोकू...



मेरा कुछ बोलना लोग बगावत समझते है...

अगर कुछ मांगू तो खिलाफत समझते है...

क्यों मुझे ही समाज के नाम पे दबाया जाता है...

क्यों मेरी भावनाओ को मिटाया जाता है.....

मैं ही क्यों खुद को समाज की भट्टी में झोकू..

मैं ही क्यों अपनी भावनाओ को रोंदू.....

मैं ही क्यों .........!!!!!


Stop Domestic Violence Against Women